Followers

Sunday, July 29, 2012

ग़लत ग़लती वहम

न कुछ गलत है , अगर आप ने समझा यही है तो आप की गलती है , वर्ना तो वहम ही था .

याहे बगाहे हम तुम से कितनी बार टकराए होंगे , कभी नहीं देखा
सोचा facebook पर कोशिश कर लूं , वहां भी जवाब नहीं दिया
मेरी गलती थी क्योंकि उम्मीद कुछ ज्यादा ही हो गयी थी
गलत नहीं थी मेरी कोशिश

छोड़ो यार हमे वहम हो गया था 



No comments:

Post a Comment