Followers

Sunday, July 29, 2012

जंतर मंतर

जोर किस बात का 
शोर है रात का 
ये भी गुजर जायेगा
शायद कुछ बदल जायेगा 

No comments:

Post a Comment