Followers

Friday, November 5, 2010

दीपावली पर विष्णु संग लक्ष्मी


दीपावली का त्यौहार राम के वनवास से लौटने का त्यौहार है। दिपावली के दिन राम राज्य की स्थापना हुई।दिपावली पर लक्ष्मी पूजा भी करी जाती है।कोई राम जी को याद नहीं करता.रामायण मे सीता जी लक्ष्मी जी का ही स्वरुप है। सीता राम का राज्य ही राम राज्य है. रामराज्य के लिए सीता संग राम होना अनिवार्य है .
लक्ष्मी धन की देवी है ,लेकिन वे विष्णु बिना न केवल अधूरी है वरन उनका ध्यान भी अपूर्ण है।लक्ष्मी विष्णु की पत्नी है ,और विष्णु जी के साथ ही रहती है. विष्णु जी संसार का पालन करते है.क्षीर सागर मे लक्ष्मी विष्णु संग विराजमान है । जहाँ विष्णु है वही श्री है ।
आज के दिन विष्णु जी को भूला दिया गया है,क्योंकि ये युग धन प्रधान है.जीवन मे लक्ष्य का अभाव है ,धन संग्रह ही लक्ष्य बन गया है। जीवां के चार अंग धर्म अर्थ काम मोक्ष मे हम केवल अर्थ ओर काम को जीना चाहते है।
वेदों के अनुसार विष्णु अक्षर पुरुष है ,लक्ष्मी इनकी शक्ति है .अतः लक्ष्मी सदैव विष्णु के साथ है.
लक्ष्मी के साथ विष्णु श्रेष्ठ है ,ओर विष्णु की पूजा से लक्ष्मी का आगमन स्वयं हो जाता है।

लक्ष्मीनारायण का ध्यान कर मै आप सब को दीपावली की शुभकामना प्रेषित करता हूँ.

3 comments:

  1. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    ReplyDelete
  2. सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    ReplyDelete
  3. संगीता जी को भी दीपावली की शुभकामनाए

    उड़न तश्तरी को भी दीपावली की शुभकामनाए

    ReplyDelete